Javascript not enabled
जन विश्वास रैली के मंच पर नेताओं के दिलों में दिखा आपसी अविश्वास - Ahirwal Today

अपने आकाओं का गुणगान किया, दूसरों का नाम तक नहीं लिया। संकेतो में किए गए एक दूसरे पर कटाक्ष।

धर्मनारायण शर्मा। नारनौल

भारतीय जनता पार्टी की ओर से 10 दिसंबर को दोगड़ा अहिर गांव में हुई जिला स्तरीय रैली सफल रही। संख्या के लिहाज से भीड़ अच्छी थी, लेकिन स्टेज पर बैठे जिला स्तरीय नेताओं के एक दल में होने के बावजूद दिल अलग-अलग दिशाओं में थे। यह बात ना केवल वहां बैठे लोगों ने महसूस की, अपितु वक्ताओं के संबोधन में भी यह बात साफ तौर पर दिखाई दी कि संगठन भले ही एक हो। स्टेज पर भी सब एक साथ बैठे हो, पर नेताओं के मन साफ नहीं है। इसका नुकसान भविष्य में पार्टी को उठना भी पड़ सकता है। इसके संकेत भी नेताओं के संबोधन में दिखाई दिए। विकसित भारत जन विश्वास रैली के नाम पर सभी वक्ताओं ने केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा किए जा रहे विकास कार्यों का गुणगान किया तो आपस में एक दूसरे पर संकेत में कटाक्ष भी किए। 

यहां बता दें कि नांगल चौधरी के विधायक डॉक्टर अभय सिंह यादव ने जिला स्तर पर जन विश्वास रैली करने का ऐलान दिवाली से पहले किया था। जिस समय उन्होंने यह जानकारी दी उसे समय केवल पार्टी के जिला अध्यक्ष उनके साथ थे। इसके बाद से वह लगातार इलाके के चारों हल्का में जनसंपर्क अभियान भी चलाए हुए थे। तब से चर्चा चली आ रही है कि डॉक्टर अभय सिंह यादव इस रैली को करके अपनी राजनीतिक ताकत दिखाने के साथ दक्षिण हरियाणा के वरिष्ठ नेता राव इंद्रजीत सिंह को भी अपने वजूद का एहसास करना चाहते हैं। शायद यही कारण रहा कि उन्होंने नारनौल के विधायक और राज्य मंत्री ओमप्रकाश यादव, अटेली के विधायक सीताराम यादव और महेंद्रगढ़ में पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष में पूर्व शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा को दरकिनार करते हुए अपने समर्थक कार्यकर्ताओं के साथ इन हलकों में गांव-गांव जाकर लोगों को जनसभा का न्योता दिया। यह बात पार्टी के जिला व प्रदेश स्तर के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं को जब नागवार गुजरी तो इसकी शिकायत मुख्यमंत्री और संगठन के शीर्ष नेताओं से की गई। तब उनके दखल के बाद जिला कोर ग्रुप की बैठक में आयोजित की गई। इसमें रैली को भारतीय जनता पार्टी के बैनर तले और नए नाम के साथ किए जाने का निर्णय लिया गया। साथ ही संगठन के नेताओं और पदाधिकारियों को रैली में मौजूद रहने के आदेश जारी हुए।

रविवार को दोंगड़ा अहीर गांव के खेल मैदान में आयोजित इस रैली में हरियाणा प्रभारी व त्रिपुरा के पूर्व मुख्यमंत्री विप्लव कुमार देब, प्रदेश अध्यक्ष नायब सैनी की उपस्थिति में पार्टी के वरिष्ठ नेता रामबिलास शर्मा, राज्यमंत्री ओम प्रकाश यादव, अटेली के विधायक सीताराम यादव, पूर्व डिप्टी स्पीकर संतोष यादव, पार्टी के प्रदेश महामंत्री व राई के विधायक मोहनलाल बडोली, जिला प्रभारी अजय बंसल समेत अनेक वरिष्ठ नेता मौजूद थे। सबने मोदी और मनोहर सरकार के कार्य की सराहना की और तीसरी बार केंद्र में राज्य में भाजपा की सरकार लाने के लिए उपस्थित लोगों से आहवान भी किया।

रैली संयोजक डॉक्टर अभय सिंह यादव ने इलाके में नहरी पानी, लॉजिस्टिक हब, कोरियावास मेडिकल कॉलेज बनाने समेत अनेक विकास कार्य के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। उन्होंने यहां बड़ा उद्योग लगाए जाने की भी मांग रखी। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री ओमप्रकाश यादव ने दक्षिणी हरियाणा के विकास के लिए अपने नेता राव इंद्रजीत सिंह के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा कि इसके लिए उन्होंने 3 साल लगातार संघर्ष किया और उसके बाद भारतीय जनता पार्टी की सरकार में अपने इन प्रयासों को सफल करते हुए इलाके को विकास की गति की।

डॉक्टर अभय सिंह यादव की इच्छा भिवानी महेंद्रगढ़ लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने की है। शायद उनकी इस महत्वाकांक्षा को अपनी राह में रोड मानकर चल रहे और तीसरी बार लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे सांसद धर्मवीर को पसंद नहीं आ रही। 10 साल के मोदी सरकार के कल में देश में विकास का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने योजना आयोग को समाप्त करके नीति आयोग बनाया। उनका मानना है कि योजनाएं तो अगले अनेक वर्षों के लिए बनाई जाती है, लेकिन नीतियां बनाकर देश को आगे ले जा सकता है। मोदी इसके अध्यक्ष हैं और राव इंद्रजीत सिंह इनके साथ यह कार्य कर रहे हैं। सीताराम यादव ने अपने अटेली हलके के विकास कार्यों की स्थिति लोगों के सामने रखी।

रामबिलास शर्मा ने मनोहर में मोदी सरकार के विकास कार्यों के साथ इलाके के लोगों के बीच अपनी पकड़ का एहसास कराया। उन्होंने 25 मई को इसी गांव में मुख्यमंत्री मनोहर लाल के ग्रामीण द्वारा किया विरोध का जिक्र करते हुए ऐलान करके की वह दोगड़ा अहीर गांव को उप तहसील बनवाने का अपना वादा पूरा करेंगे। इसके लिए मुख्यमंत्री को इसी गांव में लेकर आएंगे। महाभारत के ऊपर शंकर जिक्र करते हुए उन्होंने कहा की द्रोपदी को कृष्ण ने कहा था कि शांति के लिए जरूर जाऊंगा पर युद्ध टलेगा नहीं। अपने इन शब्दों में वे डॉक्टर अभय सिंह को शायद यह संदेश देना चाह रहे थे कि  अभय सिंह यादव के उनके हलके में जाकर विरोधियों को बढ़ावा देने के प्रयास उनके दिल में खटक रहे हैं।

पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नायब सिंह सैनी अपने संबोधन में मनोहर लाल सरकार का गुणगान करते रहे। विप्लव कुमार देव ने मोदी सरकार के देश और विदेश में उनके नेतृत्व क्षमता का बखान किया। हालांकि उन्होंने अपने संबोधन में रामबिलास शर्मा को बीजेपी का भीष्म पितामह कहा, लेकिन वहां मौजूद नेताओं के दिलों के खटास फिर भी काम होते नहीं दिखी। इस रैली से एक बात तो साफ हो गई की पार्टी के नेता भले ही एक मंच पर थे, किंतु उनके दिलों में अलग मंथन चल रहा था। ऐसा ही चला रहा तो यह आपसी अंतर संघर्ष पार्टी को भविष्य में नुकसान पहुंचाने की या गुटबाजी को बढ़ावा देने वाला ही साबित होगा।

You Might Also Like

0 Comments

Leave A Comment

Please login to comment on this news

Featured News